Home / नगरे / प्रयाग / प्रदुषण बना ख़ास विदेशी मेहमानों के लिए खतरा

प्रदुषण बना ख़ास विदेशी मेहमानों के लिए खतरा

 

इलाहाबाद : दुनिया के कई भागो में पर्यावरण की छेडछाड के साथ स्मोग से पैदा हुई मुश्किल का असर इंसान ही ​नहीं अब ​बेजुबान परिंदे ​पर भी देखने को मिल रहा है | इलाहाबाद के संगम तट पर हर साल सर्दियों के पहले लाखो की तादाद में आने वाले विदेशी परिंदों ने इस बार संगम तट आने से मुह मोड़ना शुरू कर दिया है | नवम्बर के महीने के पहले ही अपने कलरव से त्रिवेणी के घाटो को गुलजार करने वाले विदेशी परिंदों की आवक में भारी कमी आयी है | सात समंदर पार साइबेरिया बर्ड्स दिल्ली के रास्ते ​संगम ​पहुचने वाले इन ​ विदेशी मेहमानों के रूठ जाने से जहां यहाँ आने वाले सैलानी मायूस है तो वही पर्यावरण के जानकार इसे प्रदुषण  की वजह वातावरण में हुई उथल पुथल का नतीजा और एक बड़ी चेतावनी मान रहे है |

इलाहबाद के संगम तट के घाट पर इन दिनों सुबह होते ही मन्त्रों  की आवाज और शंख ध्वनी के साथ  दिनों यहाँ  के घाटों में इन आवाजों में ​जिन ​परिंदों का कलरव भी शामिल हो ​जाता ​​था | त्रिवेणी की धारा में आस्था की डुबकी लगाने और पर्यटन के मकसद से आने वाले लोग इन खूबसूरत परिंदों की किलकारियों का मजा ​लेते थे लेकिन इस बार संगम तट पहुच रहे पर्यटकों को विदेशी परिंदों की आवक को लेकर मायूसी हासिल हो रही |

​पर्यावरण और पक्षियों के ब्यवहार पर नजर रखने वाले पक्षी विज्ञानियों का कहना है की विदेशी परिंदों के अचानक रूठ जाने की एक बड़ी वजह दिल्ली और इलाहाबाद सहित देश के कई शहरो में बढ़ता पर्यावरण प्रदूषण है | ये विदेशी परिंदे प्रदूषण को लेकर बेहद संवेदनशील होते है | साइबेरियन बर्ड्स की कमी के चलते नाविक भी बेहद परेशान है उनके कारोबार पर असर पड़ रहा है। साथ ही नाविक भी प्रदुषण को ही ज़िम्मेदार मान रहे हैं।

About Abhishek Tiwari

Check Also

देश की अदालतों में न्यायिक प्रकिया में बदलाव को लेकर राष्टपति का सुझाव, राष्ट्रपति संगम किनारे कुम्भ की तैयारियों का जायज़ा ले, त्रिवेणी तट पर की आरती

  इलाहाबाद – देश के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद का कहना है की अदालतो को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: