Breaking News
Home / नगरे / प्रयाग / देश की अदालतों में न्यायिक प्रकिया में बदलाव को लेकर राष्टपति का सुझाव, राष्ट्रपति संगम किनारे कुम्भ की तैयारियों का जायज़ा ले, त्रिवेणी तट पर की आरती

देश की अदालतों में न्यायिक प्रकिया में बदलाव को लेकर राष्टपति का सुझाव, राष्ट्रपति संगम किनारे कुम्भ की तैयारियों का जायज़ा ले, त्रिवेणी तट पर की आरती

 

इलाहाबाद – देश के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद का कहना है की अदालतो को मुअक्किलों को जागरूक करने के लिए स्थानीय भाषा में कोर्ट में सुनवाई करनी चाहिए | उनका यह भी कहना है की अदालतों में होने वाले फैसलों की कॉपी अगर स्थानीय भाषा में दी जाय तो इससे न्यायिक प्रक्रिया को समझने में भी मदद मिलेगी | राष्ट्रपति  यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ इलाहाबाद हाईकोर्ट की तरफ से आयोजित एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे | राष्टपति इलाहाबाद में न्याय ग्राम की आधार शिला रखने इलाहाबाद पहुंचे थे जहा अपनी यात्रा के दूसरे दिन इलाहबाद में इसकी आधार शिला रखी | न्याय ग्राम में ही प्रदेश की पहली न्यायिक अकादमी के निर्माण की शुरुआत का रास्ता भी साफ़ हो गया है जो अपनी तरह की किसी भी हाईकोर्ट की पहली न्यायिक अकेडमी होगी जिसमे प्रदेश के न्यायिक अधिकारियों को प्रशिक्षित करने के साथ  बदलते दौर में समाज में आवश्यक न्यायिक प्रक्रिया को हासिल करने के लिए न्यायिक अधिकारियों के साथ संवाद स्थापित करने का मंच हासिल हो सकेगा |

लोकतंत्र की अहम कड़ी है न्याय पालिका जिसकी चौखट में आम आदमी इन्साफ के लिए आता है लेकिन कई बार अदालतों के चक्कर काटने के बाद उस न्यायिक कवायद को नहीं समझ पाता है जिसे उसे समझना जरूरी है | देश के राष्ट्रपति ने इसके लिए अदालतों को  स्थानीय भाषा में कोर्ट में सुनवाई करने की सलाह दी है । उनका यह भी कहना है की अच्छा होगा की अदालतों में होने वाले फैसलों की कॉपी  स्थानीय भाषा में दी जाय तो इससे न्यायिक प्रक्रिया को समझने में और भी मदद मिलेगी ।

राष्ट्रपति आज इलाहबाद में अपने दो दिवसीय दौरे के आख़िरी दिन इलाहबाद हाईकोर्ट परिसर में न्याय ग्राम की आधार शिला रखने इलाहबाद हाईकोर्ट पहुंचे थे | राष्ट्रपति के साथ यूपी के सीएम योगी , गवर्नर राम नाईक  और प्रदेश सरकार के कई मंत्री भी साथ थे | इस मौके पर सीएम योगी ने भी न्याय ग्राम की अहमियत को सामने रखा जिससे न्यायिक प्रकिया को सरल बनाने में हो सकती है | इसके पहले योगी गवर्नर राम नाइक और राष्ट्रपति संगम किनारे कुम्भ की तैयारियों का जायज़ा लेने त्रिवेणी तट पर पहुंचे जहाँ उन्होने त्रिवेणी की आरती करने के बाद लेटे हनुमान मंदिर में दर्शन भी किये | योगी ने कुम्भ को दुनिया की अमूर्त विरासतों में शामिल करने पर यूनेस्को का आभार जाहिर किया |

गौरतलब है की न्याय ग्राम की स्थापना इलाहाबाद के देवघाट  में हो रही है  | 395  करोड़ से अधिक की लागत से 35  एकड़ में बसाये जा रहे इस न्याय ग्राम में  एक न्यायिक अकेडमी और एक ऑडोटोरियम की स्थापना की जाएगी  जिसमे प्रदेश के तीन हजार से अधिक न्यायिक अधिकारियों को प्रशिक्षण और न्यायविदों के साथ संवाद के संवाद का मंच हासिल हो सकेगा |

About Abhishek Tiwari

Check Also

प्रयाग में महामहिम राष्ट्रपति के उद्बोधन के साथ एमएनएनआईटी का 14वां दीक्षान्त सामारोह सम्पन्न, युवाओं को फिल्म स्टार अमिताभ बच्चन के संघर्षों से नसीहत लेने और बढ़ने की दी सीख

  इलाहाबाद – भारत के राष्ट्पति राम नाथ कोविन्द आज  संगम नगरी इलाहाबाद  पहुचे । …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: