Breaking News
Home / नगरे / प्रयाग / प्रयाग में महामहिम राष्ट्रपति के उद्बोधन के साथ एमएनएनआईटी का 14वां दीक्षान्त सामारोह सम्पन्न, युवाओं को फिल्म स्टार अमिताभ बच्चन के संघर्षों से नसीहत लेने और बढ़ने की दी सीख

प्रयाग में महामहिम राष्ट्रपति के उद्बोधन के साथ एमएनएनआईटी का 14वां दीक्षान्त सामारोह सम्पन्न, युवाओं को फिल्म स्टार अमिताभ बच्चन के संघर्षों से नसीहत लेने और बढ़ने की दी सीख

 

इलाहाबाद – भारत के राष्ट्पति राम नाथ कोविन्द आज  संगम नगरी इलाहाबाद  पहुचे । अपने दो दिन के इलाहाबाद दौरे में पहले दिन सबसे पहले शहीद चन्द्र शेखर आज़ाद की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित करने पहुचे । राष्ट्रपति इलाहाबाद के मोती लाल नेहरू राष्ट्रीय प्राद्योगिकी संस्थान के 14 वे में दीक्षांत  समारोह में बतौर मुख्य अतिथि हिस्सा लेने पहुचे जहाँ उन्होंने एक हजार से अधिक टेक्नोक्रेट्स को उपाधियाँ बांटी ।

चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित करते महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

 

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश के युवाओं को फिल्म स्टार अमिताभ बच्चन के संघर्षों से नसीहत लेते हुए उन्हें आगे बढ़ने की सीख दी है। इलाहाबाद में भावी टेक्नोक्रेट्स के कार्यक्रम में राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि फ़िल्मी दुनिया में अमिताभ बच्चन का शुरुआती सफर काफी संघर्षों भरा रहा। संघर्ष और कड़ी मेहनत के बावजूद कई सालों तक उनके हिस्से सिर्फ नाकामी ही आई। लंबे कद की वजह से लोग उनका मज़ाक उड़ाते थे, लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और पूरे आत्मविश्वास के साथ काम करते रहे। उन्होंने जिस हालात में कामयाबी हासिल की, वह बेमिसाल है। आज के युवाओं को उनके जीवन और संघर्षों से प्रेरणा लेनी चाहिए। अगर युवा अमिताभ बच्चन को आदर्श मानकर उनके जीवन से प्रेरणा लेंगे तो उन्हें निश्चित तौर पर कामयाबी मिलेगी। अमिताभ का पूरा जीवन सीख लेने लायक है और यह संघर्षों व आत्मविश्वास की नसीहत देने वाला है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने यह बातें इलाहाबाद के मोतीलाल नेहरू नेशनल इंस्टीट्यूट आफ टेक्नालॉजी के चौदहवें दीक्षांत समारोह में भावी टेक्नोक्रेट्स को सम्बोधित करते हुए कहीं। उन्होंने इलाहाबाद में जन्मे मिलेनियम स्टार अमिताभ बच्चन के साथ ही पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम और मेट्रोमैन श्रीधरन के जीवन से भी लोगों को सीख लेने की नसीहत दी। इन शख्सियतों के अलावा राष्ट्रपति ने तकनीकी पाठ्यक्रम में नैतिकता व राष्ट्रबोध विषय को भी शामिल किये जाने की बात कही। उन्होंने कहा कि नैतिकता व राष्ट्रबोध के बिना तकनीकी शिक्षा का कोई महत्व नहीं है। तकनीकी शिक्षा पाने वालों को राष्ट्रहित में काम करना चाहिए, तभी उनकी डिग्री का महत्व है।

 

About Abhishek Tiwari

Check Also

देश की अदालतों में न्यायिक प्रकिया में बदलाव को लेकर राष्टपति का सुझाव, राष्ट्रपति संगम किनारे कुम्भ की तैयारियों का जायज़ा ले, त्रिवेणी तट पर की आरती

  इलाहाबाद – देश के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद का कहना है की अदालतो को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: