Breaking News
Home / नगरे / अवध / पीतलनगरी में शिक्षा व्यवस्था पर बोले उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा।

पीतलनगरी में शिक्षा व्यवस्था पर बोले उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

श्रीन्यूज़.कॉम।लखनऊ।उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा का मानना है कि हमारी शिक्षा में नैतिकता के भाव की काफी कमी है। वह कैबिनेट मंत्री डॉ. रीता बहुगुणा जोशी के साथ आज पीतल नगरी मुरादाबाद में बालिका कॉलेज के उद्घाटन पर गए थे। कार्यक्रम में राज्य मंत्री बलदेव सिंह औलख भी मौजूद थे उप मुख्यमंत्री के साथ माध्यमिक तथा उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने प्रदेश की पर्यटन मंत्री रीता बहुगुणा जोशी के साथ ने मुरादाबाद के मंगूपुरा में नारायण कुमार लोहिया बालिका विद्या मंदिर इंटर कॉलेज का उद्घाटन किया। समारोह में लोक निर्माण एवं पंचायती राज मंत्री चौधरी भूपेंद्र सिंह, अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री बलदेव सिंह औलख व समाज कल्याण मंत्री गुलाब देवी भी थे। डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि हमारी शिक्षा पद्धति में नैतिकता के भाव की काफी कमी है। अगर नैतिकता का भाव अच्छा रहता तो फिर हमको स्कूलों के बाहर एंटी रोमियो दल को लगाने की जरूरत हीं नहीं पड़ती। यहां पर तो विपक्षी दल प्रदेश सरकार के एन्टी रोमियो स्क्वाड पर सवाल उठाते हैं। हम कहते हैं कि प्रदेश में उसकी जरूरत क्यों पड़ी। हमारे समाज मे नैतिकता का अभाव है। शिक्षा में नैतिकता का भाव होना चाहिये। विद्या भारती शिक्षा के साथ नैतिकता का भाव भरने का काम कर रही है। अगर सभी विद्यालय यह काम करें तो एन्टी रोमियो स्क्वाड की जरूरत नहीं होगी।डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि अगले शैक्षिक सत्र से हम यूपी बोर्ड को भी एनसीआरटी के पैटर्न पर चलाएंगे। अब यूपी बोर्ड के छात्र भी अन्य बोर्ड के समान अंक प्राप्त करेंगे। शिक्षा में सरकार आमूल चूल परिवर्तन करेगी। विद्यालयों का हर कार्यक्रम पहले से तय होगा। बोर्ड परीक्षा में स्वकेंद्र खत्म कर दिए जाएंगे। उप मुख्यमंत्री डॉ. शर्मा ने मुरादाबाद में विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए संकल्प की बात कही। सभी को विश्वविद्यालय के लिए साथ आने का आह्वान किया। डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि अयोध्या में 18 अक्टूबर के कार्यक्रम को लोग साम्प्रदायिक बता रहे हैं। यह बहुत जरूरी था। इसके माध्यम से हम पर्यटन को बढ़ावा दे रहे हैं। इससे विदेशी मुद्रा प्राप्त होगी साथ ही रोजगार का सृजन होगा।
इस मौके पर डॉ. रीता बहुगुणा ने कहा कि शिक्षा खास लोगों के लिए नहीं होनी चाहिए। शिक्षा को सामान्य बनाकर सभी तक पहुचाने का काम प्रदेश सरकार की ओर से किया जा रहा है। सरकार का प्रयास है कि सरकारी शिक्षा ऐसी हो कि सभी उसे ग्रहण कर सके। 15 सालों में प्रदेश शिक्षा और विकास में पिछड़ गया है। अब उसे देश का अग्रणी प्रदेश बनाना है। जिसके लिए काम चल रहा है।

About desh deepak"rahul"

Check Also

नए विद्यार्थियों से नही लिया जाएगा अनाप सनाप शुल्क -उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा

श्रीन्यूज।लखनऊ।उत्तर प्रदेश सरकार के उप मुख्यमंत्री डॉक्टर दिनेश शर्मा जी ने पत्रकारों को संबोधित करते …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: